गुलाम नबी आजाद ने आरएसएस प्रमुख की तारीफ में पढ़े कसीदे, भारत जोड़ो यात्रा पर उठाया सवाल, कहा- रोड नापने से कुछ नहीं होता



डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। कांग्रेस से बगावत के बाद अलग पार्टी बनाने का ऐलान करने वाले पूर्व कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद को लेकर सियासी गलियारों में चर्चा तेज है कि वह जम्मू-कश्मीर में भाजपा के साथ गठबंधन कर सकते हैं। कांग्रेस का दामन छोड़ने के बाद हाल के दिनों में गुलाम नबी आजाद के कई ऐसे बयान आए हैं। जिसके बाद से सियासत में गरमी बढ़ गई है। हाल ही में अनुच्छेद-370 को लेकर उनके बयान आए थे। जिसके बाद फिर बुधवार को उन्होंने एक निजी न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की बड़ाई की।

अयोध्या व ज्ञानवापी मसले पर मुखर होकर बोले और कहा कि मुझे नहीं पता कि बीजेपी या फिर आरएसएस के किसी नेता ने कहा कि हर मस्जिद तोड़ना है। उन्होंने आगे कहा कि आरएसएस के कुछ ऐेसे विचार हैं जो स्वागत योग्य हैं। मोहन भागवत कह चुके हैं कि हर मस्जिद तोड़ी नहीं जा सकती है। गुलाब नबी आजाद के इस बयान के बाद राजनीतिक अटकलें तेज हो गई हैं।

कांग्रेस पर आजाद ने साधा निशाना

गुलाम नबी आजाद एबीपी न्यूज से बातचीत में कहा कि हमने पार्टी में सुधार लाने की कोशिश की। जिसके संबंध में कांग्रेस अध्यक्ष को पत्र लिखा लेकिन उसका जवाब उल्टा-सीधा आया था। उन्होंने आगे कहा कि वर्चुअल मीटिंग के दौरान लीडर ने कहा कि यह पत्र मोदी ने लिखा है। मैंने कहा कि मोदी ये क्यों लिखेंगे कि कांग्रेस के स्थायी अध्यक्ष चाहिए और इसे मजबूत करो। आजाद ने आगे कहा कि मुझे कांग्रेस वालों ने भाजपा का राष्ट्रपति बना दिया, उपराष्ट्रपति बना दिया। आजाद कांग्रेस पर हमलावर दिखे और कहा कि उन्होंने सपने बेचकर मुझे बदनाम करने की कोशिश की लेकिन जब आंख खुली तो वह सबकुछ झूठा निकला।

राहुल पर इशारों में किया हमला

गुलाम नबी आजाद ने सोनिया गांधी को लेटर लिखा था और राहुल गांधी पर इशारों में हमला बोला था कि जो डॉक्टर है वही कंपाउंडर है। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि राहुल गांधी ने मुझे कभी भी अपमानित नहीं किया लेकिन उनके नेतृत्व में कमी है। कांग्रेस खत्म हो रही है। उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा पर सवाल उठाया और कहा कि रोड नापने से कुछ नहीं होता। उन्होंने कहा इसमें भी नेता विजिबल नहीं हैं। वह ऐसे दिखाई दे रहे हैं जैसे फिल्मों में कुछ समय के लिए किरदार आ जाता है।

जानें राजनीतिक एजेंडा?

पूर्व कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने साफ किया कि उनका एजेंडा किसी पार्टी को नष्ट करना नहीं है। आजाद ने आगे कहा कि मैंने आर्टिकल 370 का नाम लेकर जनता को बेवकूफ नहीं बनाया है। हमने अपने तीन मुद्दे बता दिए हैं। उन्होंने कहा, मेरी पार्टी  का नाम और झंडा जल्द ही सब कुछ सामने आएगा। लेकिन मैं किसी पर राजनीतिक अटैक नहीं करने जा रहा हूं। 



Source link

Leave a Reply