MS Dhoni: धोनी के कारण जब राहुल द्रविड़ हो गए थे मायूस, चाह कर भी नहीं हो पाई थी बात, हर्षा भोगले ने बताया ये खास सीक्रेट

[ad_1]

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी सोशल मीडिया से दूर रहना ही पसंद करते हैं। पिछले कई सालों से धोनी सोशल मीडिया पर शायद ही किसी खास मौके पर कुछ अपडेट किए हों। धोनी अपनी निजी जिंदगी को काफी सीक्रेट रखना पसंद करते हैं। ऐसे में उनसे संपर्क करना भी काफी मुश्किल होता है। हाल ही में कमेंटेटर हर्षा भोगले ने खुलासा किया कि टीम इंडिया के मौजूदा कोच राहुल द्रविड़ भी अपने संन्यास के समय धोनी से संपर्क नहीं कर सके थे।

भोगले ने इंटरव्यू में बताया कि धोनी के पास फोन नहीं है और साल 2012 में राहुल द्रविड़ ने उन्हीं की कप्तानी में संन्यास की घोषणा की थी वह वह अपने कप्तान से कॉन्टैक्ट नहीं कर सके थे।’ उन्होंने कहा, ‘मैं खुद धोनी से सिर्फ एक बार ही मिल पाया हूं। धोनी से कॉन्टैक्ट करना काफी मुश्किल है। उनके पास मोबाइल फोन भी नहीं है। उनके घर में एक मोबाइल है जिसका नंबर कुछ ही लोगों के पास है और वहीं उनसे संपर्क कर सकते हैं।’

सिर्फ राहुल द्रविड़ ही नहीं दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने भी जब संन्यास लिया था तो वह धोनी से संपर्क नहीं कर सके थे। लक्ष्मण ने अपने संन्यास के समय कहा था कि, ‘मैंने धोनी से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन जैसा कि आप जानते हैं कि धोनी तक पहुंचना बहुत मुश्किल है।’

बता दें कि धोनी ने अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को आईसीसी के सभी बड़े खिताब (टी20 विश्व कप, वनडे विश्व कर और चैंपियंस ट्रॉफी) जीता चुके हैं। उन्होंने 15 अगस्त साल 2020 को इंटरनेशनल क्रिकेट से अलविदा कहा था। हालांकि वह इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलना जारी रखा है।

धोनी ने अपनी कप्तानी में चेन्नई की टीम चार बार खिताबी जीत भी दिलाई है। हालांकि आईपीएल 2022 के शुरुआत में उन्होंने टीम की कप्तानी रविंद्र जडेजा को सौंपी थी लेकिन टूर्नामेंट के बीच में ही उन्होंने फिर से कप्तानी अपने पास ले ली थी। वहीं आईपीएल 2023 में धोनी ने घोषणा की थी कि वह सीएसके के लिए खेलना जारी रखेंगे।

भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक धोनी

धोनी ने टीम इंडिया के लिए साल 2004 में अपना डेब्यू किया था। इसके बाद वह 16 साल तक टीम इंडिया के लिए खेले। डेब्यू के तीन साल के अंदर ही उन्हें 2007 में टी20 टीम का कप्तान नियुक्त किया गया और उनकी कप्तानी में ही टीम इंडिया ने विश्व कप का खिताब भी जीता। इसी साल वनडे विश्व कप भी खेला गया था जिसमें भारतीय टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहा था। वनडे विश्व कप के बाद टीम को वनडे फॉर्मेट में भी कप्तानी और 2011 में उन्होंने टीम को 1983 के बाद दूसरी बार वनडे वर्ल्ड का खिताब दिलाया।

वहीं धोनी अपने करियर में टीम इंडिया के लिए 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी20 मैच खेले। टेस्ट क्रिकेट में धोनी ने भारत के लिए 4876 रन बनाए। वहीं वनडे में उनके नाम 10773 रन दर्ज हैं जबकि टी20 इंटरनेशनल में उन्होंने 1617 रन बनाए हैं।

ENG w vs IND w: 13 चौके वाली स्मृति की झामफाड़ फिफ्टी, अंग्रेजों की तो बैंड बजा दी, 8 विकेट से मारा मैदान
Robin Uthappa: धोनी की टीम के इस चैंपियन खिलाड़ी ने क्रिकेट से लिया संन्यास, टी20 विश्व कप में मचाया था धमाल
Australia odi captain: ऑस्ट्रेलिया ढूंढ रहा वनडे कप्तान, ये 3 खिलाड़ी ले सकते हैं फिंच की जगह, कोहली का साथी भी है रेस में
BCCI: सुप्रीम कोर्ट के फैसले बाद सौरव गांगुली और जय शाह बने रहेंगे BCCI के बॉस

[ad_2]

Source link

Leave a Reply