Volodymyr Zelenskyy News: कार दुर्घटना में बाल-बाल बचे यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की, क्या रूस ने रची थी मौत की साजिश?


कीव: यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की एक कार दुर्घटना में बाल-बाल बचे हैं। उनकी कार काफिले में शामिल दूसरे एस्कॉर्ट वाहनों से टकरा गई। इस दुर्घटना में जेलेंस्की को किसी भी तरह की चोट नहीं आई। हालांकि, उनके ड्राइवर को एंबुलेंस से अस्पताल लेकर जाया गया। रूस से युद्ध के बीच यूक्रेनी राष्ट्रपति के कार की टक्कर को लेकर कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं। इन दिनों रूस में भी व्लादिमीर पुतिन के करीबी लोगों की अजीबोगरीब परिस्थितियों में मौत हो रही है। ऐसी कई घटनाएं सामने आई हैं, जिनमें मौत का कारण बिल्डिंग से कूदना, घर में रहस्यमय परिस्थितियों में मरा मिलना और आग लगना शामिल है। कुछ दिनों पहले ही रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के राजनीतिक गुरू कहे जाने वाले एलेक्जेंडर डुगिन को निशाना बनाकर एक कार में धमाका किया गया था। इसकी चपेट में डुगिन तो नहीं आए, लेकिन उनकी बेटी की मौत जरूर हो गई।

जेलेंस्की के प्रवक्ता ने बताई पूरी घटना
यूक्रेन में हुई इस दुर्घटना के बाद जेलेंस्की के प्रवक्ता सर्गेई निकिफोरोव ने कहा कि दुर्घटना के बाद उनके साथ यात्रा कर रहे डॉक्टरों ने राष्ट्रपति का आकलन किया। उन्होंने कहा कि यह घटना देश की राजधानी कीव में हुई। निकफोरोव ने बताया कि कीव में, एक कार यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की की कार और एस्कॉर्ट वाहनों से टकरा गई। राष्ट्रपति के साथ आने वाले डॉक्टरों ने उनकी कार के चालक को आपातकालीन चिकित्सीय सहायता प्रदान की। राष्ट्रपति की एक डॉक्टर द्वारा जांच की गई, कोई गंभीर चोट नहीं पाई गई। कानून प्रवर्तन अधिकारी दुर्घटना की सभी परिस्थितियों का पता लगाएंगे।

जेलेंस्की की कार दुर्घटना के पीछे किसका हाथ
रूस-यूक्रेन जंग के बीच राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की की कार दुर्घटना को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। कुछ विशेषज्ञों का दावा है कि इसके पीछे रूस का हाथ हो सकता है। हालांकि, यूक्रेनी राष्ट्रपति कार्यालय की तरफ से इस दुर्घटना को लेकर रूस का नाम नहीं लिया गया है। राष्ट्रपति की कार को टक्कर मारने वाली गाड़ी भी उन्हीं के काफिले का हिस्सा थी। ऐसे में जांच के बाद ही इस दुर्घटना के असली कारणों का पता लग सकता है।

रूसी सैनिकों को तेजी से पीछे ढकेल रहा यूक्रेन
यूक्रेनी सेना रूसी सैनिकों को तेजी से पीछे ढकेल रही है। पूर्वी यूक्रेन के कई शहरों से रूसी सेना का नियंत्रण खत्म हो चुका है। ऐसे में यूक्रेन के हौसले बुलंद हैं। राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने खुद बताया है कि यूक्रेन की सेना ने सितंबर की शुरुआत से 6,000 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र पर दोबारा कब्जा कर लिया है। वर्तमान में यूक्रेन के पांचवे हिस्से पर रूस का कब्जा है। अब भी बड़ी संख्या में रूसी सैनिक यूक्रेन में मौजूद हैं। इनकी सबसे बड़ी तादात पूर्वी यूक्रेन के डोनबास इलाके में है। इस क्षेत्र मे रूसी बोलने वाले लोग बहुसंख्यक हैं, जिन्हें रूस अपने देश का नागरिक मानता है।



Source link

Leave a Reply